यूपीपीएससी पर फूटा अभ्यर्थियों का गुस्सा, आयोग को याद दिलाया वादा - Jobriya-सरकारी नौकरी उत्तर प्रदेश 2018,रोजगार समाचार,सरकारी नौकरी UP

Monday, 11 December 2017

यूपीपीएससी पर फूटा अभ्यर्थियों का गुस्सा, आयोग को याद दिलाया वादा

यूपीपीएससी पर फूटा अभ्यर्थियों का गुस्सा, आयोग को याद दिलाया वादा


इलाहाबाद : सम्मिलित राज्य अभियंत्रण सेवा परीक्षा-2013 के परिणाम का चार साल से इंतजार कर रहे सैकड़ों अभ्यर्थियों का गुस्सा सोमवार को उप्र लोकसेवा आयोग पर फूट पड़ा। आयोग के गेट पर घंटों धरना प्रदर्शन किया। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में अभ्यर्थियों के प्रतिनिधि मंडल ने परीक्षा नियंत्रक से बात की। अभ्यर्थी लिखित आश्वासन मांगते रहे और परीक्षा नियंत्रक ने जुबानी आश्वासन ही दिया, जिससे नाराज अभ्यर्थियों ने देर शाम आयोग के गेट पर बेमियादी अनशन शुरू कर दिया। अभ्यर्थियों का कहना है कि आयोग अपनी वेबसाइट पर इस बात को जारी करे कि परिणाम कब घोषित होगा।
गौरतलब है कि सितंबर में अभ्यर्थियों ने आयोग के गेट पर धरना प्रदर्शन किया तो आयोग ने सिटी मजिस्ट्रेट के समक्ष हुई वार्ता में आश्वासन दिया था कि दिसंबर के पहले सप्ताह में परिणाम जारी करने का पूरा प्रयास होगा। यह आश्वासन पूरा न होने पर अभ्यर्थियों ने एकजुट होने की योजना बनाई और सोमवार को प्रदेश के कई जिलों से अभ्यर्थी आकर उप्र लोकसेवा आयोग के गेट पर इकट्ठे हो गए। नारेबाजी करने लगे और स्टैनली रोड पर यातायात जाम कर दिया। 1एई का रिजल्ट फरवरी और जेई का मार्च तक1परीक्षा नियंत्रक ने अभ्यर्थियों से कहा कि एई का रिजल्ट फरवरी में और जेई का रिजल्ट मार्च तक जारी हो सकता है। अभ्यर्थियों का कहना था कि आयोग लगातार उनसे समय मांग रहा है और अपने आश्वासन से मुकर रहा है। फिलहाल इस पर दोनों पक्षों के बीच बात नहीं बन सकी। देर शाम सिटी मजिस्टेट पुन: आयोग में परीक्षा नियंत्रक के पास पहुंचे। फिलहाल अनशन जारी है। लोकसेवा आयोग के सामने प्रदर्शन करते प्रतियोगी छात्र।

आयोग को याद दिलाया वादा
चक्का जाम कर रहे अभ्यर्थियों में देवनाथ सिंह, नंदलाल यादव, आनंद यादव, शशि शेखर शर्मा, अमित कुमार सिंह, अनुराग पांडे, शैलेंद्र पांडे आदि का प्रतिनिधि मंडल दोपहर करीब डेढ़ बजे पुलिस अधिकारियों के साथ परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार से वार्ता के लिए पहुंचा। अभ्यर्थियों ने आयोग को वादा याद दिलाया और अपनी परेशानी बताई, जबकि परीक्षा नियंत्रक का कहना था कि उनके पास विशेषज्ञों की कमी है इसलिए परिणाम समय से जारी नहीं हो पा रहे हैं। अभ्यर्थियों का कहना था कि आयोग अपनी वेबसाइट पर यह लिखित आश्वासन दे कि परिणाम कब जारी होगा। इसे परीक्षा नियंत्रक ने नहीं माना।